Select Language

Check Application Status
en

Resource Zone

प्रश्न और उत्तरः Sukanta Singha Roy

Liz DeCarlo

Rate 1 Rate 2 Rate 3 Rate 4 Rate 5 0 Ratings Choose a rating
Please Login or Become A Member for additional features

Note: Any content shared is only viewable to MDRT members.

महामारी से क्लाइंट्स को एडवाइज देने में अवसर और चुनौतियां आई हैं।

Sukanta Singha Roy के लिए 2020 में कुछ अच्छी चीजें हुई हैं।

हां, महामारी ने कंज्यूमर्स का एक नया वर्ग बनाया है। जो लोग पहले इंश्योरेंस के बारे में बातचीत करने से बचने की कोशिश करते थे या जो इस विषय को गंभीरता से नहीं लेते थे उन्हें अचानक इसका महत्व समझ आने लगा है। महामारी के कारण लगातार लॉकडाउन ने इस गलत धारणा को व्यावहारिक तौर पर तोड़ दिया कि मानव जीवन को कभी कुछ नहीं होता। इस मजबूत धारणा के कारण कंज्यूमर्स उपयुक्त मनी मैनेजरमेंट नहीं करते थे। कोविड-19 ने इस मानसिकता को एक बेहतर तरीके से बदलने में मदद की है।

महामारी के आने पर क्लाइंट्स को आपने किस प्रकार की वित्तीय सलाह दी थी?

महामारी ने साबित किया है कि मानव जीवन अनिश्चित है, और इसी तरह से वैश्विक अर्थव्यवस्था भी है। ऐसी आपात स्थितियों का सामना करने पर प्रत्येक व्यक्ति के लिए मनी मैनेजमेंट जरूरी है, और केवल एक स्थिर और गारंटीड इंटरेस्ट रेट वह आश्वासन उपलब्ध करा सकता है। अर्थव्यवस्था में ऐसी अस्थिरता के दौरान बचने में केवल कुछ एन्युटी प्रॉडक्ट्स ही मदद कर सकते हैं। हम सभी को भविष्य में ऐसी आपात स्थितियों के बारे में नहीं पता, इस कारण से आपात स्थितियों का सामना करने के लिए निश्चित मनी फ्लो की व्यवस्था करना जरूरी है।

इस महामारी के दौरान, लोगों को बड़ी वित्तीय मुश्किलों का सामना करना पड़ा, जिसने उन्हें जीवन की अनिश्चितता को महसूस कराया। इस कारण से हमारी इंडस्ट्री के लिए स्थिति बहुत अच्छी है। लोगों को उपयुक्त एन्युटी प्रॉडक्ट्स और हेल्थ इंश्योरेंस चुनने के जरिए वित्तीय तौर पर मजबूत होने की जरूरत है, इस तथ्य पर जोर देने और दोहराने से मेरे क्लाइंट्स और संभावित क्लाइंट्स को अपनी वर्तमान वित्तीय स्थिति का दोबारा मूल्यांकन करने में मदद मिली।

इस अवधि के दौरान आपको कैसे प्रेरणा मिलती रही?

महामारी के कारण लोग नकारात्मकता से डरे हुए थे, लेकिन इस स्थिति के कुछ सकारात्मक पहलू भी थे। कोविड-19 की स्थिति ने लोगों को आपात स्थितियों का सामना करना सिखाया और आत्म-विकास और आत्मविश्लेषण के लिए काफी समय उपलब्ध कराया। मेरे क्लाइंट्स के साथ, मैं भी अपने जीवन में ऐसी कुछ चीजों को बेहतर बनाने में सक्षम हुआ जिनमें सुधार करने की जरूरत थी।

महामारी से मुझे यह समझ आया कि प्रत्येक नकारात्मक स्थिति के साथ सकारात्मकता का एक संकेत है। आपको केवल उसे खोजने की जरूरत है।

Sukanta Singha Roy कोलकाता, इंडिया से सात-वर्ष MDRT मेंबर हैं। उनसे इस पर संपर्क करें sukantasingharoy@hotmail.com

 

{{GetTotalComments()}} Comments

Please Login or Become A Member to add comments