Select Language

Check Application Status
en

Resource Zone

मिलेनियल (21वीं सदी के युवाओं) के साथ काम करना: रूढ़ियाँ बनाम वास्तविकता

Matt Pais

Rate 1 Rate 2 Rate 3 Rate 4 Rate 5 0 Ratings Choose a rating
Please Login or Become A Member for additional features

Note: Any content shared is only viewable to MDRT members.

Walsh ने यह जाना कि कई मामलों में युवाओं की यह आबादी वैसी नहीं, जैसा कि शायद आप सोचते हैं।

तकरीबन 20 साल की उम्र का एक क्लाइंट पके दफ़्तर में बैठा है, जिसका पूरा ध्यान टेक्स्टिंग पर है। जब आप कुछ देर के लिए उसका ध्यान पाते हैं, तो वह सबसे पहले यही जानना चाहता है कि क्या वह आपकी सिफ़ारिशों पर अमल कर सकता है और उन्हें एक अलग सलाहकार के साथ उपयोग कर सकता है। असल में वह यह व्यक्तिगत बैठक भी नहीं करना चाहता और न ही उसने कभी इस बैठक में शामिल होने के लिए आपके फोन कॉल का जवाब दिया था। इसके अलावा: न ही उनके पास पैसा है, न ही उन्हें बीमा पर किसी तरह का भरोसा है और अगर आप उन्हें तुरंत अमीर बना सकते हैं, तभी वे आपके साथ काम करेंगे।

इस तरह का अनुभव कभी भी अच्छा नहीं होगा। Brendan Clune Walsh का कहना है कि यह बात भी उन्हें युवा क्लाइंट के साथ असल में काम करते वक्त मिलने वाले पसंदीदा अनुभव को बदल नहीं सकेगी, आज के युवाओं से उनका आशय ऐसे किसी भी व्यक्ति से है, जिसका जन्म 1981 से 1996 में हुआ हो, अतः उसकी उम्र 24-39 वर्ष हो।

डेट्रायट, मिशिगन निवासी नौ-वर्षों से MDRT सदस्य का कहना है कि “उन्हें बीमा उत्पाद के लिए काम करना अच्छा लगता है और वे इसके लिए हमेशा काम करने को तैयार रहते हैं।”

Walsh मुख्य रूप से तगड़ा मुनाफ़ा कमाने वाले परिवारों के लिए जायदाद संबंधी योजना बनाने और कॉर्पोरेशन के लिए उत्तराधिकार सौंपने की योजना पर काम करते हैं, लेकिन उन्होंने और उनके दफ़्तर में मौजूद एक अन्य सलाहकार (जो असल में एक युवा है, जबकि Walsh की उम्र इस पीढ़ी के लोगों से थोड़ी ज़्यादा है) ने काल्पनिक बातों में से तथ्यपूर्ण बातों को अलग करने के लिए कई सारे युवा क्लाइंट के साथ भी काम किया है। उदाहरण के लिए:

तकरीबन 30 साल की उम्र के उनके क्लाइंट, जो कि किसी व्यवसाय के मालिक हैं, उन्हें लेकर Walsh कहते हैं कि “वे क्लाइंट मेरे पुराने क्लाइंट की तुलना में उस प्रक्रिया में कुछ ज़्यादा ही दिलचस्पी ले रहे थे।” इसके तहत वे दफ़्तर भी आते, जबकि उनके कई पुराने क्लाइंट चाहते हैं कि Walsh खुद उनके पास जाएँ। उन्होंने बताया कि “खरीदने-बेचने के काम में पैसा लगाने के मामले में वे जीवन बीमा और विकलांगता बीमा की सलाह को भी काफ़ी खुले मन से स्वीकार करते और वे हमें इस क्षेत्र के विशेषज्ञ के रूप में देखते।” “वे तुरंत होने वाले लाभ के बजाय दूरगामी परिणामों में दिलचस्पी लेते थे, इस मामले में निर्णय तुरंत लेते थे।”

वहीं Walsh के दादाजी ने उन्हें जिस क्लाइंट का रिफ़रेंस दिया, वह केवल 26 साल का था, जब उसकी शादी हुई थी और कुछ ही साल बाद उसका मन Walsh के साथ काम करने का बन गया। Walsh बताते हैं कि “शुरुआत में वह काफी खुले मन का और दिलचस्पी लेने वाला व्यक्ति था, वहीं अब यदि उसके मन में वित्तीय मामले से जुड़ा कोई भी सवाल आता है, वह उन चीज़ों का जवाब ढूँढने के लिए मुझे कहता है।” “वह बचत करने के मामले में बहुत अच्छा है, हम एक-दूसरे से लगभग हर दिन मिलते हैं और वह हमारे काम की सराहना करता है।”

Walsh कहते हैं कि 21वीं सदी के युवाओं में से ज़्यादातर अपनी वित्तीय स्थिति को लेकर जितना अन्य लोग सोचते हैं उससे कहीं ज़्यादा सतर्क और उस स्थिति के अनुरूप हैं। शायद ऐसा इसलिए क्योंकि वे पढ़ाई के समय लिए गए उधार चुकाने पर ध्यान देते हैं या फिर उन्होंने 2008 में आए वित्तीय संकट का असर अपने परिवारों पर देखा है। इसके पीछे की वजह पर ध्यान दिए बिना Walsh ने पाया है कि इस पीढ़ी के लोग उनके कई पुराने क्लाइंट की तुलना में काफ़ी ज़िम्मेदारी के साथ बचत करते हैं।

साथ ही उन्होंने यह भी बात कही कि 21वीं सदी के युवाओं के लिए कही जाने वाली कई बातें असल में 2020 के हर आयु वर्ग के लोगों पर लागू होती हैं।

वहीं यह कि युवा फोन पर बात करना क्यों नहीं चाहते? तो Walsh के ऐसे कई पुराने क्लाइंट हैं, जो भी फोन पर बात नहीं करना चाहते हैं। यहाँ पर यह ध्यान रखना ज़रूरी है कि हर क्लाइंट लंबित अनुपालन पर बात करने के लिए किस माध्यम को पसंद करता है, फिर वो चाहे फोन कॉल हो, ईमेल हो, मैसेज हो, LinkedIn (Walsh का सबसे पसंदीदा माध्यम) या अन्य कोई माध्यम हो।

क्या उनकी डिवाइस से लगातार उनका ध्यान भटकता रहता है? Walsh की युवा क्लाइंट के साथ कोई भी ऐसी बैठक नहीं हुई, जिसमें संबंधित क्लाइंट का ध्यान उसके फोन या मैसेज से भटका हो, साथ ही उन्होंने यह पाया है कि हम सभी आज के समय में फोन के वाइब्रेशन या रिंगटोन पर प्रतिक्रिया देते ही हैं।

क्या प्लानिंग को लेकर तत्काल संतुष्टि और उदासीनता दिखाते हैं? एक चीज़, जो आजकल की कभी न रुकने वाली डिजिटल दुनिया में हर कोई चाहता है, वह है हर काम जल्दी करना, इसमें एक क्लिक में खरीदारी, एक दिन में शिपिंग और इलेक्ट्रॉनिक हामीदारी आते हैं। वहीं दूसरी ओर Walsh का एक ऐसा नया युवा क्लाइंट है, जो किसी स्टार्टअप ऑर्गेनाइज़ेशन का CEO है और उन्होंने कंपनी के संस्थापकों में महत्वपूर्ण व्यक्तियों का बीमा करवाने का काम शुरू किया है।

Walsh का कहना है कि “मुझे लगता है कि युवाओं में उद्यमिता के गुण लोगों की सोच से कहीं ज़्यादा हैं।” “हम क्या कर सकते हैं और किस काम में मदद कर सकते हैं, इसके बारे में उन्हें एक बार समझ आ जाए, तो उन्हें इसके फ़ायदे भी पता चल जाएँगे। वे वाकई में हमारे क्लाइंट बेस का एक प्रमुख हिस्सा हैं, क्योंकि उन्होंने अगली पीढ़ी के व्यवसाय मालिकों और लीडरों के रूप में उभरना शुरू कर दिया है।”

संपर्क जानकारी: Brendan Clune Walsh brendan@catalyst-sg.com

 

{{GetTotalComments()}} Comments

Please Login or Become A Member to add comments