Select Language

Check Application Status
en

Resource Zone

अपनी उम्र जैसे न पेश आएँ

Elizabeth Diffin

Rate 1 Rate 2 Rate 3 Rate 4 Rate 5 0 Ratings Choose a rating
Please Login or Become A Member for additional features

Note: Any content shared is only viewable to MDRT members.

रूढ़िवादी विचारधारा का त्याग करें और आज के कई पीढ़ियों वाले कार्यबल की विशेषताओं को उभारें।
Illustration by Stuart Briers

Walton W. Rogers, CLU, ChFC जिन्होंने सबसे पहले 1975 में MDRT के लिए क्वालीफाई किया और हर दिन काम के दौरान टाई पहनी। और वह अकेले नहीं थे; उस समय सूट और टाई पहनना एक स्टैण्डर्ड था। लेकिन 46 बाद अपेक्षाएं अब शिफ्ट हो गई हैं।

आजकल, Rogers ज्यादा कैजुएल नजर आने के लिए कभी-कभी अपनी टाई घर पर छोड़ जाते हैं। यह केवल पहनावे संबंधी निर्णय नहीं है; वह कहते हैं यह उनकी युवा पीढ़ी X और मिलेनियल सहकर्मियों का प्रभाव है, जो एक अधिक कैजुएल ड्रेस कोड अपनाते हैं।

यह अपेक्षाकृत महत्वहीन परिवर्तन व्यवसाय की दुनिया में एक बहुत बड़ी प्रवृत्ति की ओर इशारा करता है। 2020 में, कार्यस्थल में एक बार में पाँच अलग-अलग पीढ़ियों के लोग हो सकते हैं। मिलेनियल, दुनिया की सबसे अधिक आबादी वाली पीढ़ी, अधिक प्रभावशाली बन रही है। शोध बताते हैं कि 2025 तक, वे वैश्विक कार्यबल के 75% के के बराबर हो जाएँगे।

उनके पुराने समकक्ष, बेबी बूमर से लेकर परंपरावादी, लंबे समय तक कार्यबल में रह रहे हैं; एकसाथ वे लगभग 27% अमेरिकी कार्यबल और विश्वस्तर पर 6% के बराबर हैं। जेन X के सदस्य 40 से 50 की उम्र के बीच हैं, नेतृत्व के पदों पर आसीन हैं और वर्तमान में वैश्विक कार्यबल में एक तिहाई से अधिक की हिस्सेदारी रखते हैं। और हाल ही में कॉलेज से ग्रेजुएट हुए लोग कार्यबल में शामिल हो रहे हैं; जेन Z का अगले पांच से 10 सालों में कार्यबल पर ज़बरदस्त प्रभाव होगा।

पांच पीढ़ियों का यह अनोखा अभिसरण कई कार्यालयों को प्रभावित करेगा, पीढ़ियों के तनाव और बेहतरीन अवसरों के लिए दरवाजे खोलते हुए।

एक बिल्कुल नई दुनिया

सोसाइटी फॉर ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट (SHRM) के उपाध्यक्ष Tony Lee मुताबिक, कई पीढ़ियों वाले कार्यबल बनने के इस बड़े बदलाव के कई कारण हैं। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि लोग जल्दी-जल्दी सेवानिवृत्त नहीं होते हैं। लंबी जीवन प्रत्याशा और जीवन स्तर के उच्च मानकों का मतलब है कि लोग 70 और कभी-कभी 80 वर्ष की आयु में भी काम करते हैं, क्योंकि वे स्वस्थ हैं और काम का आनंद लेते हैं।

2008 के वैश्विक वित्तीय संकट ने सेवानिवृत्ति की आय को भी प्रभावित किया, इसलिए बहुत से सेवानिवृत्त लोगों को जीविका के लिए काम करना पड़ा।

फरवरी 2019 में जनगणना ब्यूरो और श्रम सांख्यिकी ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार, 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र के 20% अमेरिकी काम कर रहे थे या काम की तलाश में थे।

जैसे कि Rogers, जो 76 की उम्र में केवल इसलिए काम कर रहे हैं: क्योंकि उन्हें यह करना पसंद है।

जैक्सनविल, फ्लोरिडा के 46 वर्षीय Rogers जो 2008 में MDRT के अध्यक्ष थे और उसके सदस्य हैं, ने कहा कि “ऐसी किसी चीज को क्यों रोकना, जो मजेदार है जिसे करने में मैं अच्छा हूँ और जिसे करके मुझे पुरस्कार मिलता है।” “मैंने अपने पद पर ऐसे लोगों के बारे में पढ़ा है जो 92 वर्ष के हैं और ऑफिस जाते हैं। मैंने समझता हूँ।”

फिर भी वो कहते हैं कि वह अपनी गति कम कर रहे हैं और उनकी यह योजना है कि 80 की उम्र में वह इसी गति से काम नहीं करेंगे।

Lee कहते हैं Rogers अपनी पीढ़ी के लिए एक उदाहरण हैं और यह दिखाते हैं कि आगे क्या आने वाला है।

“क्या 80 नया 60 है? उन्होंने कहा, शायद।” “मैं कहूँगा कि आप अभी जो देख रहे हैं, वो न्यू नॉर्मल है।”

बढ़ते रूप से, कई देश जहाँ सेवानिवृत्ति की आयुसीमा है, वे उसे बढ़ा रहे हैं। वास्तव में, मैनपावर ग्रुप के शोध ने बताया कि कई मिलेनियल ऐसे हैं जो 65 की उम्र के बाद भी काम करने की अपेक्षा रखते हैं। जापान में 37% मिलेनियल मानते हैं कि वे जीवन के अंत तक काम करेंगे। यह आंकड़ा भारत में 14%, अमेरिका में 12% और स्पेन में सिर्फ 3% है।

धारणा से जुड़ी समस्या

जैसे-जैसे हम कई पीढ़ियों वाले कार्यस्थलों के नए क्षेत्र में प्रवेश कर रहे हैं, चुनौतियां मिलना स्वाभाविक है। पुरानी पीढ़ी को अक्सर यह डर लगता है कि नई पीढ़ी ऑफिस में आकर सबकुछ बदलने की कोशिश करेगी, जबकि युवाओं को यह लगता है कि वरिष्ठ लोग जिद्दी होंगे या बदलाव नहीं चाहेंगे।

Lee कहते हैं कि मूलमंत्र रूढ़िवादी विचारों को ना मानना है।

उन्होंने कहा, “किसी व्यक्ति की पीढ़ी के आधार पर पूर्वानुमान न लगाएँ।” “बुजुर्गों के प्रति अनुचित व्यवहार दूर तक जाता है”।

सिंगापुर निवासी 21 वर्षों से MDRT सदस्य Ter Chiew Ping, AFP, LUTCF जनरेशन X का हिस्सा हैं। उन्होंने धारणा कायम करने से होने वालीं समस्याओं को देखा है। 21 से 52 वर्ष के कर्मचारियों के साथ काम करने वालीं Ping, को यह अहसास हुआ कि अपने युवा सहकर्मियों के प्रति उनके पूर्वाग्रह किसी तथ्य पर नहीं परंतु रूढ़िवादी विचार पर आधारित हैं।

उन्होंने कहा, “मुझे लगता था कि युवा जीवन में अपनी दिशा के बारे में स्पष्ट नहीं हैं।” “पर बाद में पता लगा कि अच्छे संवाद और मार्गदर्शन के साथ उनकी महत्वकांक्षाएँ बढ़ी हैं।”

Ping ने कहा कि कभी कभी उनके जेन Z और मिलेनियल सहकर्मियों का बर्ताव बुरा रहा है, जबकि ऐसा होने का कोई अच्छा कारण नहीं था। लेकिन थोड़ा उकसाने के बाद उन्हें पता चला कि वह उनका ध्यान आकर्षित करने की कोशिश कर रहे थे लेकिन उन्हें नहीं पता था कि वे इस बात को उन तक कैसे पहुंचाएं।

Ping के साथ काम करने वालीं सिंगापुर की MDRT सदस्य Voon Jin Goh, BSc (Hons) कहती हैं कि दो पीढ़ियों के बीच भ्रम और असहमति के लिए अक्सर टेक्नोलॉजी को ज़िम्मेदार ठहराया जाता है।

मिलेनियल Goh ने कहा, “हमारे ज्यादा परिपक्व सहकर्मी टेक्स्ट मैसेज के जरिये कम व्यक्त करते हैं।” “देखा जाए तो टेक्स्ट मैसेज को गलत समझना आसान है। हालांकि, इस तरह से गलत अर्थ निकालना कभी-कभी एक ही पीढ़ी के लोगों के बीच भी होता है।

और जब विचारों को लेकर आपका किसी सहकर्मी से मतभेद हो, तो भले ही वह आपसे अलग पीढ़ी का हो, यह न सोचें कि आपका विवाद केवल इस कारण से है।

Lee ने कहा, “लोग अलग-अलग तरीके से व्यवहार करते हैं, क्योंकि वह अलग हैं, ज़रूरी नहीं कि सिर्फ इसलिए क्योंकि वह विशिष्ट पीढ़ी के हैं।

विविधता का महत्व

कई पीढ़ियों वाले कार्यस्थलों में चुनौतियां हो सकती हैं, लेकिन इसका मतलब निरंतर विवाद नहीं है। वास्तव में, कई आयु वर्ग वाले समूह होने के कई लाभ हैं और इनके साथ अलग-अलग दृष्टिकोण मिलते हैं।

Lee ने कहा, “SHRM के शोध ने पाया है कि विभिन्न प्रकार के लोगों से बने कार्यबल से कंपनी को अधिक लाभ होता है। बस”।

ऐसा होने के कई कारण हैं। सिंगापुर में रहने वाले पेशेवर मिलेनियल वक्ता Benjamin Loh कहते हैं कि मुख्य कारण यह है कि कई पीढ़ियों वाले कार्यस्थल “ग्रुप थिंक” से बच जाते हैं, जिसमें सभी लोग किसी चुनौती या परिस्थिति को एक ही नजरिये से देखते हैं।

इसके बजाये कई पीढ़ियों वाले कार्यस्थल “जनरेशनल एम्प्थी” को बढ़ावा देते हैं। अलग-अलग पीढ़ियों वाले लोगों के साथ काम करने से अलग-अलग अनुभव और दृष्टिकोण पता चलते हैं, जो खासतौर पर क्लाइंट के साथ काम करते समय उपयोगी हो सकते हैं।

उदाहरण के लिए, Loh कहते हैं 20 और 30 की उम्र वालों के लिए क्लाइंट की सेवानिवृत्ति की योजना बनाने में मदद करना मुश्किल हो सकता है, क्योंकि उन्हें इस दौर से (सेवानिवृत्ति) काफी समय बाद गुजरना है। लेकिन यदि वे ऐसे सलाहकारों के साथ काम करते हैं, जो सेवानिवृत्ति करीब है, तो इस स्थिति पर उनके दृष्टिकोण को प्राप्त करना उपयोगी हो सकता है।

Loh ने कहा, “कभी-कभी सबसे अजीब जगहों पर भी जादू देखने को मिलता है।” "जिस तरह से मैं इसे देखता हूं, विविधता जितनी अधिक होती है, अवसर उतना ही मजबूत होता है।"

कई पीढ़ियों वाले कार्यबल के होने से इसकी अधिक संभावना रहती है कि आप कई पीढ़ियों के क्लाइंट प्राप्त करेंगे। अधिकांश सलाहकार कम से कम शुरुआत में अपने प्राकृतिक बाजार में पहुंचते हैं, जिनमें पूर्व सहपाठी, उनके बच्चों के स्कूल के अन्य माता-पिता, या पड़ोसी जिन्हें वे पार्क में देखते हैं। संभावना है कि वे समान आयुवर्ग के होंगे।

Lee ने कहा, “यह बहुत महत्वपूर्ण है कि उनके पास ऐसे कर्मचारी हैं जो अपने ग्राहकों के साथ अच्छे संबंध स्थापित कर सकते हैं।" “निश्चित रूप से आर्थिक दृष्टिकोण से अन्य पीढ़ियों के लोगों को जोड़कर अपने व्यवसाय को विकसित करने और अन्य पीढ़ियों के ऐसे कर्मचारियों को साथ रखकर जो उनके साथ अच्छे से संवाद कर सकें, का मतलब समझ आता है।"

जैसे कि Rogers कहते हैं, “जैसे हम खरीदते हैं, वैसे ही हम बेचते हैं।" तो युवा पीढ़ी जो ऑनलाइन वातावरण में अधिक सहज हो सकती है, ऑनलाइन बेचने के लिए तैयार होगी, जबकि Rogers, जो ऐसे समय व्यवसाय में आए जब डोर-टू-डोर बिक्री अधिक सामान्य थी, अभी भी अपने गृहनगर में छोटे-छोटे व्यवसाय मालिकों को जोड़ने में विश्वास रखते हैं।

यह किसी रेसिपी से अलग नहीं। साथ मिलकर, यह सामग्रियां कई बेहतर परिणाम देती हैं।
— Susan Paterson

एक -दूसरे से सीखना

डेस मोइनेस, लोवा निवासी 24 वर्षों से MDRT सदस्य Peter Hill, ChFC ने युवाओं के साथ काम करने के महत्व को पहली बार महसूस किया। उनकी कंपनी पास के ड्रेक विश्वविद्यालय के साथ संबंध बनाए रखती है, छात्रों को इस उम्मीद में बतौर इंटर्न काम पर रखती कि शायद ग्रेजुएशन पूरी होने के बाद वह पूर्णकालिक कर्मचारी के रूप में काम करें।

Hill के मुताबिक, अभी तक वह छह पूर्व इंटर्न को नौकरी दे चुके हैं। मिलेनियल और जेन Z पीढ़ी के लोगों के साथ काम करके उन्होंने एक महत्वपूर्ण सबक सीखा है: "पूर्ण सहयोग की बात बहुत बड़ी है," उन्होंने कहा, "जब तक हम सभी एक दूसरे से सीखने में सक्षम हैं।"

अपने पुराने सहकर्मियों के विचारों को खारिज करने के बजाय, Goh कहती हैं कि पेशे के लिए नया होने का मतलब है कि वह उनके अनुभव और उन सबक को महत्व देती हैं, जिनसे वह दूसरों को अवगत कराना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, “हमारे पुराने सहयोगियों के पास एक प्रणाली है जिसका वे पालन करते हैं।" “हम अपने अनुभवी सहकर्मियों द्वारा पहले से विकसित और स्थापित प्रणालियों का इस्तेमाल शुरुआत से इस दिनचर्या का आदी बनने के लिए कर सकते है।"

दूसरे शब्दों में, आपको चक्के का आविष्कार करने की ज़रूरत दोबारा नहीं है, जब मूल चक्का बनाने वाले लोग आपसे कुछ ही दूरी पर बैठे हैं।

और जहाँ तक बुजुर्ग लोगों की युवाओं से सीखने की बात है, तो वह भी हो रहा है- और हमेशा कंप्यूटर स्क्रीन पर नहीं। 17 वर्षों से MDRT सदस्य Susan Catherine Paterson, FChFP जिनके कर्मचारियों की आयु 19 से 55 वर्ष है, कहती हैं कि उनके युवा सहकर्मियों ने उन्हें तेज काम करना, अतिरिक्त प्रक्रियाओं को खोजना और फीडबैक अपनाना सिखाया है।

लोगनहोल, क्वींसलैंड, ऑस्ट्रेलिया की Paterson ने कहा, यह किसी रेसिपी से अलग नहीं। “साथ मिलकर, यह सामग्रियां कई बेहतर परिणाम देती हैं।”

Rogers इससे सहमत हैं कि साथ काम करना ही सफलता की कुंजी है। उन्होंने कहा, “यदि हम एक टीम के रूप में काम करना चाहते हैं तो हमें हमेशा बढ़ने और सीखने और अपने काम करने के तरीके में बदलाव लाने के लिए तैयार रहना होगा।”

सिंगापुर निवासी आठ वर्षों से MDRT सदस्य Cheng Huann Yeoh, ChFC, CLU ने ऐसा होते हुए देखा है। उन्होंने कहा, उनकी कंपनी जिसमें वह Goh और Ping के साथ काम करते हैं – ने हाल ही में सोशल मीडिया आउटरीच के बारे में चर्चा की।

पुरानी पीढ़ी का मानना था कि यह ज़रूरी नहीं है और वह इसमें लगने वाले पैसे को सीमित रखना चाहते थे। युवा पीढ़ी का मानना था कि चाहे बजट कुछ भी हो, उन्हें “पूरी तरह से इस पर कार्य” करना चाहिए।

उन्होंने कहा, “एक समझौता किया गया कि बजट को बैच में जारी करने से पहले मुख्य प्रदर्शन संकेतों और माइलस्टोन को एक समय सीमा के भीतर पूरा करना होगा”। “इससे समिति यह सुनिश्चित कर पाई कि और धन लगाने के पहले कुछ हासिल हो गया हो। साथ ही, युवा पीढ़ी प्रोजेक्ट को शुरू कर पाई और खर्च किये गए हर डॉलर के लिए उन्हें ज़िम्मेदार माना गया।”

यह सच में विन-विन था।

Rogers ने कहा, “पीढ़ियों का अंतर ज़्यादातर सकारात्मक रहता है।“ “उनके पास ऐसा कौशल होता है, जो मेरे पास नहीं, उनके पास हुनर होता है जो मेरे पास नहीं, उनके पास चीजों को देखने का अलग तरीका होता है। यह ज्यादा अच्छा होता है कि हमारे पास एक ऐसा कार्यालय हो जिसमें परतें हों – आयु और हुनर की परतें।”

कौनसी पीढ़ियां हैं?

कार्यस्थल में वर्तमान में पांच पीढ़ियां हैं, लेकिन अधिकांश लोगों को यह नहीं पता होता कि कौन कहाँ फिट बैठता है। साथ ही, पीढ़ियों का अंतर देश या क्षेत्र के आधार पर भी अलग होता है। इस कहानी के लिए, हमने प्यू रिसर्च सेंटर के कटऑफ पॉइंट का सहारा लिया।

अलग-अलग पीढ़ियों के साथ कैसे काम करें

आगे आने वाले कुछ सालों में जैसे-जैसे कार्यालयों में कई पीढ़ियों के लोगों की संख्या बढ़ेगी, यह ज़रूरी हो जायेगा कि प्रबंधक और पर्यवेक्षक सुनिश्चित करें कि वह साथ मिलकर काम करने को बढ़ावा दे रहे हैं और पीढ़ियों के बीच उनके बनाम हम की सोच को दूर रख रहे हैं। लेकिन आप ऐसा करेंगे?

एक लोकप्रिय अवधारणा यह है, जिसे Tony Lee “रिवर्स मेंटरिंग” कहते हैं। पारंपरिक मेंटरिंग मॉडल के विपरीत जहाँ एक पुराना या अधिक अनुभवी कर्मचारी एक छोटे या कम अनुभव वाले को मार्गदर्शन देता है, रिवर्स मेंटरिंग युवा कमर्चारियों को अपने से बड़े कर्मियों की सहायता करने के लिए प्रोत्साहित करती है।

उन्होंने कहा कि इसमें तकनीकी नवाचार या नए व्यवसाय आइडिया से लेकर एक बुजुर्ग कर्मचारी को किस तरह देखा जाता है, उसके बारे में इमानदार फीडबैक जैसे विषय हो सकते हैं। बदले में, युवा सलाहकार अनुभवी लोगों से तकनीक और प्रक्रियाओं के बारे में सीख सकते हैं।”

Harvard Business Review के एक आर्टिकल में “द 2020 वर्कप्लेस” की सहलेखिका Jeanne C. Meister ने प्रबंधकों को अलग अलग आयु वर्ग वालीं वर्कटीम बनाने के लिए प्रोत्साहित किया जिससे अलग-अलग पीढ़ियों के सदस्य एक दूसरे से सीख सकें।

Meister ने कहा, “अध्ययन दिखाते हैं कि सहकर्मी औपचारिक प्रशिक्षण से अधिक एक दूसरे से सीखते हैं इसीलिए यह बेहद ज़रूरी है कि विभिन्न आयु वर्गों में कोचिंग संस्कृति को स्थापित किया जाए।” उन्होंने यह भी बताया कि यह अधिक अनौपचारिक संबंध सहकर्मियों के बीच प्रतिस्पर्धा की भावना को दूर करते हैं।

जेन Z से मिलें

मिलेनियल दूर हटो। पीढ़ी Z, जिनका जन्म 1997 या उसके बाद हुआ है, आ रहे हैं। लेकिन ये युवा कौन हैं, जो वैश्विक कार्यबल में शामिल हो रहे हैं? अनुमान है कि ये इस साल के अंत तक कार्यबल में 24% हिस्सेदारी बना लेंगे, इसलिए उन्हें नज़रंदाज नहीं किया जा सकता।

Tony Lee का कहना है कि ये किशोर और 20 के आसपास के लोगों में वास्तव में अप्रत्याशित समूह बेबी बूमर से काफी कुछ मिलता जुलता है।

उन्होंने कहा, “हम जो शोध देख रहे हैं, वह यह है कि जेन Z, जेन X और जेन Y के विपरीत आमने-सामने बातचीत को प्राथमिकता देता है।”

उनके मुताबिक, इसकी एक वजह यह है कि जेन Z के लोग तकनीक के साथ बड़े हुए हैं, लेकिन उन्हें हमेशा यह पता नहीं होता कि किस पर विश्वास करना है। फोटो और वीडियो से छेड़छाड़ की जा सकती है; सोशल मीडिया पोस्ट झूठ और गलत जानकारी फैला सकते हैं; फर्जी खबरें हर तरफ हैं।

Lee ने कहा, “जेन X के लोग किसी जानकारी पर तब तक विश्वास नहीं करते, जब तक कि उन्हें आमने-सामने न बताई जाए, क्योंकि अन्यथा वह गलत हो सकती है, उससे छेड़छाड़ की गई हो सकती है, वह किसी तरह से पूर्वाग्रहित हो सकती है।”

2017 में, इन्सेड इमर्जिंग मार्केट्स इंस्टीट्यूट, यूनिवर्सम और हेड फाउंडेशन ने जनरेशन X, Y और Z पर एक सर्वेक्षण किया। सर्वेक्षण में पाया गया कि जेन Z एक अत्यधिक उद्यमशील पीढ़ी है: 25% उत्तरदाताओं ने अपना व्यवसाय शुरू करने में रुचि दिखाई।

Lee ने कहा, “वे ‘शार्क टैंक’ देखते हुए बड़े हुए हैं, इसलिए उन्हें पता है कि किसी आइडिया के साथ अपना काम शुरू करना कितना आसान है। “वे पिछले 10 सालों में एक बढ़ती अर्थव्यवस्था में रहे हैं, इसलिए जहाँ तक उनकी बात है तो व्यवसाय शुरू करके पैसा कमाना ज्यादा कठिन नहीं है।”

सेंटर फॉर जनरेशनल कैनेटीक्स ने 2018 में एक शोध किया था, जो फीडबैक पर जेन Z की निर्भरता को रेखांकित करता है। इसकी "स्टेट ऑफ़ जेन Z" रिपोर्ट बताती है कि जनरेशन Z के दो तिहाई लोगों का कहना है कि उन्हें अपनी नौकरी पर बने रहने के लिए कम से कम हर कुछ हफ्तों में अपने पर्यवेक्षक से फीडबैक चाहिए, जबकि पांच में से एक को रोजाना या दिन में कई बार फीडबैक चाहिए।

Lee ने कहा, “ये वह पीढ़ी है, जो अपना स्कूल पूरा कर रही है जहाँ ये टेस्ट देते हैं, क्लासरूम से निकल जाते हैं और उनकी ग्रेड के बारे में उनके फोन पर जानकारी दे दी जाती है।” “वे यह जानने के आदी हैं कि उन्हें वास्तव में हर समय कहाँ खड़ा रहना है। इसलिए आपके पास पहले की तुलना में ज्यादा मज़बूत संचार चैनल होने चाहिए।

और याद रखें: ये सामान्यीकरण है। जेन Z का प्रत्येक सदस्य मिलेनियल और जेन X की तरह ही यूनिक है। आप जो भी करते हैं, प्रत्येक व्यक्ति के साथ एक व्यक्ति के रूप में पेश आयें और जानें कि उनके लिए क्या ज्यादा मायने रखता है।

 

{{GetTotalComments()}} Comments

Please Login or Become A Member to add comments