Select Language

Check Application Status
en

Resource Zone

ट्रू टेल्स: पछतावा 50 साल बाद भी है

Brian H. Ashe, CLU

Rate 1 Rate 2 Rate 3 Rate 4 Rate 5 0 Ratings Choose a rating
Please Login or Become A Member for additional features

Note: Any content shared is only viewable to MDRT members.

एक युवा सलाहकार, आर्थिक तंगी से जूझ रहा मेडिकल रेजिडेंट, भयानक परिणाम और 50 साल का पछतावा।

जब मैंने पहली बार व्यवसाय में कदम रखा, तो मैंने बहुत सारा समय युवा डॉक्टरों के साथ काम करने में व्यतीत किया। मैं इस उम्मीद में हर दिन 10 से 12 घंटे अस्पताल में रेजिडेंट और इंटर्न से मिलने में बिताता कि यदि वह अपने संघर्ष के दिनों में मेरे साथ व्यवसाय करते हैं तो हमारा रिश्ता तब और लाभदायक हो जाएगा जब वह पैसा कमाने लगेंगे।

मैंने एक 26 वर्षीय महिला रेजिडेंट से शिकागो, इलिनोइस स्थित अस्पताल में मुलाकात की। वह 1969 का दौर था जब मैंने रोज़मेरी के साथ बुनियादी जीवन बीमा विकल्पों के बारे में बात की।

वह केवल एक चीज के बारे में चिंतित थी: उसने मेडिकल स्कूल के लिए ऋण लिया था, और उसे डर था कि अगर उसे कुछ हो गया, तो उसके माता-पिता पर इन कर्जों का भार आ जाएगा।

उसने बहुत छोटी $25,000 की जीवन बीमा पॉलिसी के साथ शुरुआत करने का फैसला किया।

तो मैंने आवेदन लिया। मैंने उससे कहा कि अच्छा होगा यदि वह मुझे शुरुआती प्रीमियम देती है, क्योंकि न्यूनतम प्रीमियम भी कंपनी को जोखिम में डाल सकता है जब तक कि चिकित्सीय जानकारी का मूल्यांकन नहीं किया जाता।

उसने कहा, “मैं अभी आर्थिक तंगी से गुजर रही हूँ। अन्यथा में ऐसा नहीं करती। मैं भुगतान के लिए जारी की जाने वाली पॉलिसी की प्रतीक्षा करना चाहती हूं।"

तो मैंने कहा ठीक है। मैं आवेदन पाकर खुश था; मैं इस व्यवसाय में नया था।

मैंने आवेदन आगे बढ़ाया और बीमा कंपनी ने इसे संसाधित करना शुरू कर दिया। मैंने मेडिकल एग्जाम शुरू करने के लिए फोन किया।

लगभग तीन से चार दिन बाद, जब मुझे रोजमैरी के निधन के बारे में बता चला मैं वापस किसी दूसरे फिजीशियन से बात करने पहुँच गया।

जिस दिन मैंने उससे बात की, उसके बाद उसे फुफ्फुसीय अन्त: शल्यता हो गई। रोज़मैरी पहले एम्बोलिज्म से उबर गई थी, लेकिन जब वह अपने अस्पताल के कक्ष में वापस आई, तो उसमें एक और थक्का विकसित हुआ, जिससे उसकी मौत हो गई।

मैंने दुःख के साथ एक गहरी सांस ली, क्योंकि मैंने उसे विफल कर दिया था। अगर मैंने उसे थोड़ा और जोर देकर शुरुआती रकम जमा करने को कहा होता, तो उसके माता-पिता को कर्ज के बोझ तले नहीं दबना पड़ता।

आज 50 साल बाद भी वो बात मुझे परेशान करती है।

उस दिन से, मैं हमेशा आवेदन के साथ प्रस्तावित बीमित धनराशि जमा करने पर जोर देता हूँ। उनके पास खोने के लिए कुछ नहीं है और पाने के लिए सबकुछ है, खासकर अगर उनका स्वास्थ्य बाद में बदलता है या अगर नई पॉलिसी जारी होने से पहले उनका निधन हो जाता है।

लिस्ले, इलिनोइस निवासी ब्रायन ऐश 48-वर्षों से MDRT सदस्य हैं। वह 2000 में MDRT अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

संपर्क करें: ब्रायन ऐश bashe29843@aol.com

 

{{GetTotalComments()}} Comments

Please Login or Become A Member to add comments