Select Language

Check Application Status
en

Resource Zone

क्या आपके बच्चों को आपका सक्सेशनप्लान चाहिए?

Matt Pais

Rate 1 Rate 2 Rate 3 Rate 4 Rate 5 0 Ratings Choose a rating
Please Login or Become A Member for additional features

Note: Any content shared is only viewable to MDRT members.

अपने बच्चे को प्रैक्टिस में लाने पर क्या विचार करें।

स्टीवन वैंग 24 साल की उम्र में अपने पिता के व्यवसाय से जुड़ गए थे। अगले आठ वर्षों तक, उनका प्रदर्शन खास अच्छा नहीं था।

उन्होंने कहा, "मैं पूरी तरह निचुड़ गया था।” “कभी ऐसे भी दिन थे जब मैं दोपहर में काम पर जाने के लिए आता था।"

जाहिर है, इरविन, कैलिफ़ोर्निया के नौ वर्षों से MDRT सदस्य, उस दौर से काफी आगे निकल आये हैं। फिर भी यह समझना महत्वपूर्ण है कि उन्हें शुरुआत में इतना संघर्ष क्यों करना पड़ा: वह अपने पिता के जोर देने पर उनके व्यवसाय से जुड़े, लेकिन यह उनका जुनून नहीं था। यह वैंग, उनके पिता या प्रैक्टिस के ग्राहकों के लिए अच्छा नहीं था। अपने पिता के निधन के बाद जब वैंग ने यह देखा कि जीवन बीमा ने उनके परिवार की कितनी मदद की, तो उन्होंने इसी तरह की स्थितियों में ग्राहकों की रक्षा करने के लिए अपना उद्देश्य विकसित किया।

इससे एक महत्वपूर्ण प्रश्न सामने आता है: क्या यह अपने बच्चे को अपना सक्सेशन प्लान बनाना सही कदम है?

तीन दशक पहले अटलांटा, जॉर्जिया स्थित पारिवारिक व्यवसाय संस्थान की स्थापना करने वाले डॉन श्वार्ज़लर वेबसाइट family-business-experts.com चलाते हैं और अब तक सैकड़ों पारिवारिक व्यवसायों के संदर्भ में परामर्श दे चुके हैं। उन्होंने कहा कि अगली पीढ़ी का भावनात्मक निवेश उन्हें अपने साथ लाने के लिए महत्वपूर्ण है।

उन्होंने कहा, “यदि बच्चों के पास यह नहीं होता है तो उनकी अपेक्षाओं को पुन: संरेखित करने के लिए माता-पिता के साथ बैठना हमारा काम है। “अपने व्यवसाय को बच्चों को सौंपने की संभावनाएं तलाशने से बेहतर हो सकता है उसे बिक्री के लिए तैयार करना।”

क्योंकि ऐसे कर्मचारियों के साथ कई समस्याएं आती हैं, जो प्रेरित नहीं हैं, खासकर तब जब वह अपने परिवार के सदस्य हों। “एक पिता ने बुलाकर कहा, ‘मुझे अपने दामाद से परेशानी है: श्वार्ज़लर ने कहा, “उसका काम पर आने का मन नहीं है, लेकिन मैं उसे नौकरी से नहीं निकालना चाहता।” “आपको कुछ बहुत ही भावनात्मक और मुश्किल मुद्दे हल करने हैं।"

एक अन्य मामले में, एक सलाहकार ने अपने व्यवसाय के संचालन की जिम्मेदारी अपने दामाद को सौंप दी और 10 साल उसे बाद पता चला कि दामाद का किसी अन्य महिला के साथ प्रेम-प्रसंग चल रहा है। ससुर ने उसे निकाल दिया और व्यवसाय को वापस लेने का प्रयास किया। स्वामित्व के हस्तांतरण, ग्राहकों के साथ फिर से जुड़ने और नई तकनीक और कर्मचारियों के अनुरूप खुद को ढालने की कोशिशों के नौ महीने बाद उन्हें एक घातक दिल का दौरा पड़ा।

श्वार्ज़लर ने कहा, “उसने सच में खुद को मरने के कगार पर लाने जितना काम किया था।”

यह, ज़ाहिर है, एक अतिशय उदाहरण है। 18-वर्षों से MDRT सदस्य मुंबई, भारत निवासी प्रीति अजित कुचेरिया, CFP, LUTCF के मामले में, वह नहीं चाहती थीं कि उनका बेटा इस सोच के साथ व्यवसाय में आये कि “आपने मुझे इसमें धकेल दिया।” यह उसकी पसंद होनी चाहिए थी।

इसका यह मतलब नहीं है कि प्रैक्टिस में शामिल होने का उसका रास्ता, जहां वह पिछले पांच सालों से है, आसान था।

CPA बनने के परीक्षण के दौरान, वह लगातार इससे बाहर निकलकर अन्य सपनों को पूरा करना चाहता था। परीक्षा देने के बाद, उसने तय किया कि उसे वित्तीय सेवाओं से कोई लेना-देना नहीं है और उसने 12 महीने तक यात्रा करने और अपनी कॉलिंग का पता लगाने की कोशिश की, यहां तक कि दक्षिण अफ्रीका में कुछ हफ्तों तक शेरों के साथ भी रहा।

तो जब कुचेरिया के बेटे ने व्यवसाय में शामिल होने का निर्णय लिया, तो यह उनके लिए काफी आश्चर्यजनक था।

उन्होंने कहा, “मैं और मेरे पति मानसिक रूप से इस बात के लिए तैयार थे कि किसी न किसी दिन हमारा बेटा हमसे यह कहेगा: कि मैं अब यह और नहीं करना चाहता।” “लेकिन, जब आप जीवन में किसी चीज़ की अपेक्षा नहीं करते, तो भय और चिंताएं नगण्य हो जाती हैं। आपको अपनी उम्मीदों को कम से कम करना होगा, और फिर सब कुछ एक बोनस की तरह लगता है।”

यही वजह है कि कुचेरिया ने किसी छोटे ग्राहक से अपने बेटे का परिचय कराने के लिए छह महीन इंतजार किया, और तीन साल पहले उसे एक बड़े ग्राहक के समक्ष प्रिजेंटेशन देने के लिए भी तब कहा गया जब यह स्पष्ट हो गया कि उसे काम में आनंद आ रहा है और वह ग्राहकों की अपेक्षाओं पर खरा उतरेगा।

मिन्नेटोंका, मिनेसोटा की आठ वर्षों से MDRT सदस्य एरिका वुड, AIF के मामले में भी क्रमिक दृष्टिकोण सबसे अच्छा साबित हुआ, जब उन्होंने 36-वर्षों से MDRT सदस्य अपने पिता रिचर्ड जे.ब्जोर्कुल्ड के साथ काम करना शुरू किया। वुड ने एक पैरप्लानर के रूप में शुरुआत की थी और दो साल के बाद वो सलाहकार बनने के लिए तैयार थे।

लेकिन कुछ दिन प्रति दिन की गतिविधियों को संभालने से जुड़े झगड़े उत्पन्न हो गए।

“शुरू-शुरू में मुझे उसकी मां का कॉल आता था, और वह पूछती थीं कि तुम दोनों के साथ क्या चल रहा है।” जॉरक्लुंड याद करते हैं।

वुड ने कहा, “हमेशा इसका अंत मेरे अति व्यवस्थित होने और उसके कम व्यवस्थित होने से होता था।”

आखिरकार, यह एक आशीर्वाद साबित हुआ, जिसमें वुड यह सुनिश्चित करते थे कि कोई भी काम छूट न जाए और ग्राहक के साथ फॉलो-अप की कार्यकुशलता में वृद्धि भी हुई। लेकिन यह एक रिमाइंडर था कि पेशेवर संबंधों में बारीकियों को सिर्फ इसलिए हलके में नहीं लिया जा सकता, क्योंकि आपका एक मजबूत व्यक्तिगत संबंध है।

ड्रू माइकल फोर्ट, CLU, CFP के लिए, उनका अपनी पिता की प्रैक्टिस से न जुड़ने का कारण नाटकीय नहीं था। विनचेस्टर, वर्जीनिया के इस चार वर्षीय MDRT सदस्य के लिए यह केवल अपने लिए अपना व्यवसाय स्थापित करने की बात थी।

अपनी बहन वॉबर्न, मैसाचुसेट्स की किम्बर्ली ए हार्डिंग, CLU की तरह जो कि 14 वर्षों से MDRT की सदस्य थीं, फोर्ट को अपने पिता द्वारा किसी दूसरी कंपनी में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया गया था।

फोर्ट ने कहा, “हम खुशकिस्मत थे कि हमारे पास महान मेंटर थे लेकिन मेरी बहन और मुझे अपनी प्रैक्टिस को क्लाइंट जीरो से शुरू करना पड़ा।” “यदि लोग अपने माता-पिता द्वारा बनाये गए व्यवसाय पर आश्रित हैं तो शायद उन्हें वो काम पसंद न आये। आपको ग्राहकों की सच में फ़िक्र होनी चाहिए और आपका जुड़ाव 100% होना चाहिए, अन्यथा आप इससे नफरत करने लगेंगे।

वास्तव में, इस पेशे में परिवार के सदस्य होने के कारण ही फोर्ट को नए बाज़ार की तलाश में मैसाचुसेट्स से वर्जीनिया जाना पड़ा। और इससे एक अलग प्रकार का बाय-इन हुआ।

उन्होंने कहा, “यह व्यवसाय मेरे बच्चे की तरह है। मैं इसके बारे में और इसे बेहतर बनाने के बारे में सोचना कभी बंद नहीं करता।” “यदि मैं अपने पिता के मिलकर काम करता, तो मुझे यकीन है मेरा नजरिया कुछ और होता क्योंकि मैंने यह शुरुआत से नहीं किया होता।”

कुछ साल बाद, वैंग अपनी कंपनी में चार सालों तक देश के नंबर 1 सलाहकार रहे। कुचेरिया की वेबसाइट उनके बेटे के काम की सराहना करते हुए ग्राहकों के शंसापत्र से भरी है। वह इस बात को मानती हैं कि यदि उनका बेटा इस व्यवसाय में नहीं होता तो वह और उनके पति अपनी प्रैक्टिस को इतना नहीं बढ़ा पाते या उसे परिवार में नहीं रख पाते। जॉरक्लुंड कहते हैं कि उनके तीनों बच्चों में केवल वुड ही उनकी प्रैक्टिस के लिए सही हैं। फोर्ट का मानना है कि अपने परिवार के समर्थन के बिना वह इस व्यवसाय को छोड़ देते।

यह ध्यान देना ज़रूरी है कि वित्तीय सेवा की दुनिया व्यक्तिगत सेवा और उन प्रैक्टिस के बारे में है, जो उनको चलाने वाले लोगों का प्रतिबिम्ब है। परिवारों के संदर्भ में, जो एक व्यवसाय के लिए काम करता है, हो सकता है वो दूसरे के लिए काम न करे। फिर भी इस कहानी के लिए इंटरव्यू किये गए सदस्यों ने अक्सर बच्चों को व्यवसाय के प्रभाव के बारे में जानकारी देने और उनके भविष्य को एक बोझ की तरह न महसूस कराने के बीच नाजुक संतुलन को पहचाना।

यदि संभव हो तो उन्होंने कहा, उन्हें अपना जुनून पूरा करने दें, क्योंकि जो चीज़ प्राकृतिक रूप से होती है, वही सबसे अच्छी होती है। जैसा कि नजर आता है, फोर्ट की चार साल की बेटी अभी से ही बिक्री करने की योग्यता दिखा रही है।

उन्होंने कहा, “जब वह डेढ़ साल की थी मैंने उसे डील करके हाथ मिलाना सिखाया”। “उसका दिमाग एक सेल्सपर्सन की तरह काम करता है, जहां यदि वह एक काम करती है तो उसे फल मिलता है। अब वह मुझे लगातार कुछ चीज़ों के लिए तैयार कर लेती है, एक साधारण चीज़ जैसे यदि वह अपना डिनर ख़त्म कर देती है, तो उसे एक आइसक्रीम मिलेगी।

शायद उसने मुझे अपने काबू में कर लिया हो, लेकिन वह काफी आश्वस्त करनी वाली है”।

परिवार के सदस्यों को नौकरी देने से पहले इन बातों को ध्यान में रखें।

श्वार्ज़लर ऐसी कई चुनौतियों की पहचान करते हैं, जो बच्चे या बच्चों को अपनी प्रैक्टिस में शामिल करते समय आ सकती हैं:

  • क्या बच्चा इस काम को करने के लिए सच में योग्य है? “मालिक अपने बच्चों के आत्मविश्वास को उनकी क्षमता समझ लेते हैं जो कि अच्छा कार्य करने के लिए उत्सुक होते हैं पर जिनके पास सफल होने की तैयारी नहीं होती।
  • क्या निकटता परिवार की संचालन शक्ति पर प्रभाव डालेगी और व्यवसाय को नुकसान पहुंचाएगी? एक कंपनी में जुड़वाँ भाइयों ने विपरीत कोस्ट पर अलग-अलग कार्यालयों को सफलतापूर्वक चलाया। एक कार्यालय में विलय होने के बाद, उनकी बहुत बुरी लड़ाइयाँ होने लगीं। “जब मालिक लड़ते हैं, चाहे वो अभिभावक और बच्चा हो, पति और पत्नी या अन्यथा, तो यह व्यवसाय की संगठनात्मक अखंडता पर बुरा प्रभाव डालता है।”
  • क्या अन्य पारिवारिक संबंधों का कोई प्रभाव होगा? एक पारिवारिक व्यवसाय में दो भाइयों को काम करने में परेशानी हुई, क्योंकि उन दोनों की पत्नियों की आपस में नहीं बनती थी। “भाईयों का आपस में अच्छा संबंध था लेकिन पत्नियों के बीच तनाव के कारण एक भाई को व्यवसाय छोड़ना पड़ा और किसी और को उसकी जगह लेनी पड़ी।” एक दूसरे मामले में व्यवसाय की मांग और एक पत्नी जो अपने पति की उपस्थिति हर पारिवारिक कार्यक्रम में चाहती थी, ने एक बेटे को अपने पिता और अपनी पत्नी के बीच मुश्किल परिस्तिथि में डाल दिया।
  • गैर-पारिवारिक अवसरों पर मिलने वाले वेतन की तुलना में पारिवारिक अवसरों पर कैसा वेतन मिलेगा? “हमारे पास एक कंपनी थी जहां अभिभावक अपने बच्चे को $40,000 देने की योजना बना रहे थे, जबकि उसी प्रोग्राम को पूरा करने वाले उसके अन्य दोस्तों को $90,000 तक मिलते। वो यही अपेक्षा कर रहा था, और वे चाहकर भी उसे इतना नहीं दे सकते थे।“
  • क्या परिवार के सभी शामिल सदस्यों को एकसमान वेतन मिलेगा? “यदि आपका कोई बच्चा है जो छोटा है, लेकिन वह अपने उस भाई या बहन के जितना वेतन चाहता है जो पहले से ही काम कर रहा है, तो यह एक समस्या है जो कि उनके पति या पत्नी द्वारा बढ़ाई जा सकती है।

अपनी सफलता के मौकों को कैसे बढ़ायें

  • अच्छे काम की सरहाना करें और मंशा को पहचानें। “कभी-कभी मैं अपने पति को बोलती हूँ जब वह मेरे बेटे से गुस्सा हो जाते हैं या जब मैं परेशान होती हूँ तब वह मुझे कहते हैं उसकी मंशा हमें परेशान करने की नहीं थी।’ यह स्पष्ट होने के बाद आप तुरंत प्रतिक्रिया नहीं दिखाते या फैसला नहीं लेते। आप फिर आराम से बैठ पाते हैं और परिस्तिथि को उसके नज़रिए से देख पाते हैं और निष्पक्षता से मामले को सुलझा पाते हैं। आपको उनके साथ एक कर्मचारी की तरह व्यवहार करना है, साथ ही एक बेटे की तरह भी। यह एक नाज़ुक संतुलन है।” (कुचेरिया)
  • 1 से 10 के स्केल पर, दबाव के संदर्भ में 3, 7 से बेहतर है। “यदि मेरे पिताजी ने कहा होता, ‘अगर तुम नहीं चाहते तो कोई बात नहीं, तो शायद मैं इसके बारे में सोचता और शुरुआत में अधिक गंभीर होता क्योंकि तब यह मुझे अपनी पसंद अनुसार ज्यादा लगता।” (वैंग)
  • जैसा सही हो, वैसे दुनिया को मिलाएं। “मेरे पिताजी मेरे दादा के कई मंत्र इस्तेमाल करते हैं, जो मुझे याद हैं जैसे कि ‘यदि आप होशहवास में अच्छी आदतें नहीं विकसित करते, तो आप अनजाने में बुरी आदतें विकसित कर लेंगे। यह एक व्यवसाय है जहां आप 10 बजे काम पर आ सकते हैं और कोई आपको ज़िम्मेदार नहीं ठहराएगा लेकिन आपको अपनी जिम्मेदारी खुद लेनी है। यह सुनने के लिए कुछ बहुत अच्छी बातें थीं और मजेदार भी क्योंकि मेरे दादा उस समय गुजर गए जब मैं बहुत छोटा था, इसलिए उनकी इन यादों और अनुस्मारकों का होना ख़ास था।” (वुड)
  • रिश्तों का फायदा न उठाएं। “घर पर वह आपके माता या पिता होंगे, लेकिन कार्यालय में आपको उनके साथ इस तरह व्यवहार करना है जैसे आप अपने बॉस के साथ करते। उन्हें व्यवसाय में आपको विकसित करने दें। और एक मालिक के तौर पर भी यही लागू होता है। उस तरह सहानुभूति या सख्ती दिखाएँ जैसा आप अपने कर्मचारी को दिखाते। उसकी गलतियों पर इस तरह प्रतिक्रिया न दिखाएँ जैसे कि आप घर पर हों। (कुचेरिया)
  • पारिवारिक नजदीकियों को ज़रूरी बातचीत के बीच बाधा न बनने दें। “बैठकर समस्या के बारे में हल निकालना उसे टालने से बेहतर है।” (श्वार्ज़लर)

संपर्क

रिचर्ड जॉरक्लुंड dick@bjorklundwood.com

ड्रियू फोर्ट drew@precisionbenefits.net

प्रीति कुचेरिया priti@kucheria.co.in

स्टीवन वैंग steven.wang.jdw6@statefarm.com

एरिका वुड erika@bjorklundwood.com

 

{{GetTotalComments()}} Comments

Please Login or Become A Member to add comments